गुरुवार, 14 जनवरी 2016

मकर संक्रांति 'तीळ गुळ घ्या आणि गोड गोड बोला' ब्लॉग4वार्ता....संध्या शर्मा

संध्या शर्मा का नमस्कार.........तिल और गुड की मिठास आप सभी के जीवन को मिठास और आनंद से भर दे और मकर संक्रांति के सूर्योदय के साथ एक नए सवेरे का शुभारम्भ हो इसी कामना के साथ आप सभी को ब्लॉग वार्ता परिवार की ओर से  मकरसंक्रांति, लोहड़ी एवं पोंगल की  हार्दिक शुभकामनायें.... लीजिये प्रस्तुत है, लम्बे अंतराल के बाद एक लेट लतीफ़ वार्ता ................



सूर्योपासना का पर्व है मकर संक्रांति -हमारे भारतवर्ष में मकर संक्रांति, पोंगल, माघी उत्तरायण आदि नामों से भी जाना जाता है। वस्तुतः यह त्यौहार सूर्यदेव की आराधना का ही एक भाग है।  मकर सक्रांति, एक पुण्य पर्व *बाप-बेटे में कितनी भी अनबन क्यों ना हो रिश्ते तो रिश्ते ही रहते हैं। अपने फर्ज को निभाने और दुनियां को यह * *समझाने के लिए ....



एक आस्था का गीत -यह प्रयाग है -चित्र -गूगल से साभार प्रयाग के संगम पर दुनिया का सबसे बड़ा अध्यात्मिक मेला लगता है |इसे तम्बुओं का शहर भी कहते हैं |बारह वर्ष पर महाकुम्भ और छः वर्ष पर ... सुख लौटा दो - शापित धन-यश नहीं चाहिये, व्यथा-जनित रस नहीं चाहिये । त्यक्त, कुभाषित जीवन, तेरा संग पाने को अति आकुल है । तेरी फैली बाहों में छिप जाने को रग रग व्याकुल है ।....


शुभाशंसा  जीवन जीने के लिये दो इतना अधिकार चुन कर दुःख तुम पर करूँ सुख अपने सब वार ! हर पग पर मिलती रहे तुम्हें जीत पर जीत फ़िक्र नहीं मुझको मिले कदम कदम पर हार ! बिखराने को पंथ में चुन कर लाई फूल सँजो लिये अपने हृदय काँटों के गलहार ! चुभे न भूले से कोई शूल तुम्हारे पाँव सुख मानूँ मुझको मिलें चाहे कष्ट अपार ! गहन तिमिर के कोष्ठ मैं रहूँ भले ही क़ैद तुम्हें मिले आलोकमय खुशियों का संसार ! मेरे शब्दों के है.......,!!! तुमसे रिश्ते मेरे सभी... शब्दों के है.... तुमने सुना नही कभी, मैंने कहा नही कभी..... तुम पढ़ लेते हो मुझको, मैं लिख लेती हूँ तुमको.. तुमसे एहसास मेरे सभी.... शब्दों के है.... हम सदा अंजान ही रहे इक दूजे से, तुम मिल लेते हो मुझसे मैं छु लेती हूँ तुमको, तुमसे बयाँ करते जज्बात मेरे सभी, शब्दों के है.... इक दुरी सी थी हमारे दरमियाँ, इक गहरी खामोशी की तन्हाईयाँ, तुम्हारे सवालो के जवाब सभी, मेरे शब्दों के है.......!!



अंतर्मन - हलकी सी आहट गलियारे में कहाँ से आई किस लिए किस कारण से लगा समापन हो गया निशा काल का तिमिर तो कहीं न था स्वच्छ नीला आसमान सा दृष्टि पटल पर छाया ...दूसरी दुनिया का कोई फाहा, जाग के कंधे पर -बंद आँखों में कभी-कभी चहचहाती हैं नीली- धूसर चिड़ियाँ. खुली आँखों में जैसे कभी बेवक्त चले आते हैं आंसू. सुबहें तलवों के नीचे तक घुसकर गुदगुदी करती हैं...

रामायणकालीन खरदूषण की नगरी : खरौद तपोभूमि छत्तीसगढ़ को प्राचीन काल में दक्षिण कोसल के नाम से जाना जाता था।... स्वागत नवीनता का ... -परिवर्तन प्रकृति का नियम है, जो कभी परिवर्तित नहीं होता। सकारात्मक दृष्टिकोण से देखा जाए तो हर परिवर्तन नवीनता से भरपूर होता है, तो आइये इस नवीनता का स्वागत करें ...



दीजिये इजाज़त! नमस्कार........ 


27 टिप्पणियाँ:

बहुत बढ़िया वार्ता प्रस्तुति में मेरी ब्लॉग पोस्ट शामिल करने हेतु आभार

अरे वाह ! ब्लॉग4वार्ता के पुन: आरम्भ होने पर बहुत-बहुत बधाई ! हमें तो अभी ही पता चला संध्या जी की पोस्ट पर इसकी लिंक देख कर ! और सुखद अनुभूति भी हो रही है अपनी रचना यहाँ देख कर ! आभार आपका संध्या जी ! मकर संक्रांति की अनेकानेक शुभकामनायें !

मकर संक्रांति की शुभकामनाएं । सुन्दर प्रस्तुति ।

मकर संक्रांति की शुभकामनाएं । सुन्दर प्रस्तुति ।

मकर संक्रांति की शुभकामनाएं । एक अरसे के बाद वार्ता देखकर अच्छा लगा। ढेर सारी शुभकामनाएं एवं आभार।

इस वार्ता से यात्रा शुरू करते हैं भाई जी

कृपया मेरे मं ब्लॉग के पोस्टों को भी अपनी चर्चा में स्थान दें, धन्यवाद

HindiInternet.com

add my blog - http://www.thedlove.in/

all blogger invite check my new blog and latest post and give your views..

add my blog मेरी कवितायें https://merikavitayen4u.blogspot.in/

बहुत बढ़िया वार्ता

कृपया मेरे ब्लॉग 'तरकश' को भी शामिल कीजिए..

http://equiver.blogspot.in/ है।

wow very nice....

www.funmazalo.com
www.shayarixyz.com

कृपया ब्लॉग 'मन के वातायन' को भी शामिल करें यदि शामिल करने के योग्य हो तो,धन्यबाद।
https://mankevatayan.blogspot.in/

Please add my blog armaanmaurya.blogspot.com

Please add my bolg

http://mainmusafir1.blogspot.in/

Please add my blog

https://shubhravastravita.blogspot.in

please add my travel blog
http://mainmusafir1.blogspot.in/

please add my blog
http://saahityadharm.blogspot.com

नमस्कार
आपकी ब्लाग वार्ता में अपना ब्लाग जोडने की इक्छुक हूँ
मेरे ब्लाग का पता है
http://aprnatripathi.blogspot.in

शानदार !
नमस्कार
आपकी ब्लाग वार्ता में अपना ब्लाग जोडने का इक्छुक हूँ
मेरे ब्लाग का पता है
http://pareevrajak.blogspot.in/

कृपया मेरे बलाग को भी शामिल करे ,
http://saritpravahkriti.blogspot.in

http://navotpal.blogspot.in/

नवोत्पल के प्रविष्टियों की चर्चा यदि ब्लोग४वार्ता एवं ब्लॉगोदय पर करें तो परिवार आभारी रहेगा.

इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

आदरणीय
कृप्या मेरा ब्लॉग भी शामिल करें
lokeshnadeesh.blogspot.com

https://lifewithpenandpapers.blogspot.in/

plz add my blog also

एक टिप्पणी भेजें

टिप्पणी में किसी भी तरह का लिंक न लगाएं।
लिंक लगाने पर आपकी टिप्पणी हटा दी जाएगी।

Twitter Delicious Facebook Digg Stumbleupon Favorites More